Main Yaha Tum Waha (In Hindi)

मैं हूं यहां साधारण लिखाई में,

जो सिर्फ हाल-ए-दिल को शब्द दे पाते है

तुम हो वहां असाधारण तजुर्बों में,

जो महसूस करने पर निशब्द कर जाते हैं

मैं हूं सड़क के इस पार झोपड़े में,

जहां कमरे को ही मकान कहते हैं

तुम हो उस पार एक महल में

जहां झूमरों पे भी हीरे लगे रहते हैं

मैं हूं किसी ट्रेन के भरे हुए डिब्बे में बैठा,

जहां सांस नहीं ले पाते हैं ख्वाब सारे

तुम हो किसी कुएं के पास

जहां सिक्के उछालने पे पूरे हो जाते हैं सपने

मैं हूं एक cubicle में बैठा ,

जहां पर घड़ी के बंद होने पर भी कोई नहीं रुकता तुम किसी झूले पे बैठी हो

जहां वक़्त सिर्फ बदलता है रंग आसमान के

मैं हूं अंधेरे में

तुम हो उजालों में

मैं हूं सवालों में

तुम हो जवाबों में

मैं हूं हर सच में

तुम हो हर उम्मीद में

पर, क्या सच में हर उम्मीद अच्छी होती है?

तजुर्बे तो जंग की भी वजह बन जाते हैं

और महलों में रिश्ते, दीवार से बटते हैं

सिक्कों का नसीब भी पलटता है

और जो वक्त गुजर जाए

वो बस, बस बर्बाद ही लगता है

जो इच्छाएं हकीकत से नफरत करवाती है

सच होने पर वो इच्छाएं हकीकत सी चूभ जाती है

जो पाया ही नहीं उसके सुकून में क्यों जी रहे हो

और जो है पास उस पर सवाल क्यों उठा रहे हो

ये कौन से कल से हमने उम्मीद लगा के रखी है कि जिसकी वजह से हमने अपने आज से ही झगड़ा कर लिया है

तो इसलिए जब तुम और मैं

ना सही है ना गलत

तो हम दोनों, एक क्यों नहीं?

– याहया बूटवाला

Main Yaha Tum Waha

Main hoon yahan sadhaaran likhai mein,

Jo sirf haal-e-dil ko shabd de paate hai

Tum ho wahan asadhaaran tajurbon mein,

Jo mahsoos karne par nishabd kar jaate hain

Main hoon sadak ke is paar jhopde mein,

Jahaan kamare ko hi makaan kahte hain

Tum ho us paar ek mahal mein

Jahaan jhoomron pe bhi heere lage rahte hain

Main hoon kisi Train ke bhare hue dibbe mein baitha,

Jahaan saans nahin le paate hain khwaab saare

Tum ho kisi kuen ke paas

Jahaan sikke uchhaalne pe poore ho jaate hain sapne

Main hoon ek Cubicle mein baitha ,

Jahan par ghadi ke band hone par bhi koi nahin rukta

Tum kisi jhoole pe baithi ho

Jahan waqt sirf badalta hai rang aasmaan ke

Main hoon andhere mein,

Tum ho ujaalon mein

Main hoon sawaalon mein,

Tum ho jawaabon mein

Main hoon har sach mein,

Tum ho har ummid mein

Par, kya sach mein har ummid achchhi hoti hai?

Tajurbe to jang ki bhi vajah ban jaate hain

Aur mahalon mein rishte, deewar se bat’te hain

Sikkon ka nasib bhi palat’ta hai

Aur jo waqt gujar jaye

Wo bas, bas barbaad hi lagta hai

Jo ichchhaayen haqeeqat se nafrat karwaati hai

Sach hone par wo ichchhaayen haqeeqat si choobh jaati hai

Jo paaya hi nahin uske sukoon mein kyon ji rahe ho

Aur jo hai paas us par sawaal kyon utha rahe ho

Ye kaun se kal se humne ummid laga ke rakhi hai ki jiski wajah se humne apne aaj se hi jhagda kar liya hai

Toh isliye jab tum aur main,

Na sahi hai na galat,

Toh hum donon, ek kyon nahin?

– Yahya Bootwala

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here